vishal panwar August 18, 2020


अमर उजाला ब्यूरो, गोरखपुर।
Updated Tue, 18 Aug 2020 05:56 PM IST

गोरखपुर रोडवेज स्टेशन।
– फोटो : अमर उजाला।

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

गोरखपुर में थानावार लॉकडाउन खत्म होने के बाद सड़कों पर अचानक बढ़े ट्रैफिक लोड से निजात के लिए जिला प्रशासन ने मंगलवार को एक अहम फैसला किया। अब वाराणसी और प्रयागराज के साथ ही लखनऊ के लिए भी उत्तर प्रदेश राज्य राज्य सड़क परिवहन निगम की सभी बसों को नव निर्मित नौसड़ बस स्टेशन से ही संचालित किया जाएगा।

इस संबंध में डीएम के. विजयेंद्र पांडियन ने क्षेत्रीय प्रबंधक को निर्देश जारी कर दिए हैं। डीएम का कहना है कि लखनऊ, इलाहाबाद और वाराणसी रूट की कोई भी बस अब शहर में नहीं दाखिल हो सकेगी। इन तीनों रूटों की बसों को नौसड़ बस स्टेशन पर रोका जाएगा और फिर उन्हें संचालित भी वहीं से किया जाएगा।

जिला प्रशासन के इस फैसले से शहर के लोगों को जाम से बड़ी राहत मिलने की उम्मीद है। लखनऊ के साथ ही वाराणसी और इलाहाबाद के लिए भी रोजाना बड़ी संख्या में बसों का बेड़ा शहर से होते ही बाहर निकलता और दाखिल होता है। ऐसे में प्रायः राजघाट, टीपी नगर, रूस्तमपुर, पैडलेगंज से लेकर छात्रसंघ चौराहा, कचहरी रोड और रेलवे बस स्टेशन रोड पर जाम लग जाता है।

रेलवे बस स्टेशन के सामने तो हमेशा अराजकता जैसा माहौल व्याप्त रहता है। रोडवेज चालकों द्वारा बेतरतीब बस स्टेशन के बाहर ही बसें खड़ी कर यात्रियों को बैठाया व उतारा जाता है। ऐसे में इस सड़क से मोटरसाइकिल लेकर निकलना भी मुश्किल हो जाता है। रेलवे स्टेशन आने-जाने वाले बहुत से लोग तो जाम की वजह से उस रास्ते जाते ही नहीं।

गोरखपुर में थानावार लॉकडाउन खत्म होने के बाद सड़कों पर अचानक बढ़े ट्रैफिक लोड से निजात के लिए जिला प्रशासन ने मंगलवार को एक अहम फैसला किया। अब वाराणसी और प्रयागराज के साथ ही लखनऊ के लिए भी उत्तर प्रदेश राज्य राज्य सड़क परिवहन निगम की सभी बसों को नव निर्मित नौसड़ बस स्टेशन से ही संचालित किया जाएगा।

इस संबंध में डीएम के. विजयेंद्र पांडियन ने क्षेत्रीय प्रबंधक को निर्देश जारी कर दिए हैं। डीएम का कहना है कि लखनऊ, इलाहाबाद और वाराणसी रूट की कोई भी बस अब शहर में नहीं दाखिल हो सकेगी। इन तीनों रूटों की बसों को नौसड़ बस स्टेशन पर रोका जाएगा और फिर उन्हें संचालित भी वहीं से किया जाएगा।

जिला प्रशासन के इस फैसले से शहर के लोगों को जाम से बड़ी राहत मिलने की उम्मीद है। लखनऊ के साथ ही वाराणसी और इलाहाबाद के लिए भी रोजाना बड़ी संख्या में बसों का बेड़ा शहर से होते ही बाहर निकलता और दाखिल होता है। ऐसे में प्रायः राजघाट, टीपी नगर, रूस्तमपुर, पैडलेगंज से लेकर छात्रसंघ चौराहा, कचहरी रोड और रेलवे बस स्टेशन रोड पर जाम लग जाता है।

रेलवे बस स्टेशन के सामने तो हमेशा अराजकता जैसा माहौल व्याप्त रहता है। रोडवेज चालकों द्वारा बेतरतीब बस स्टेशन के बाहर ही बसें खड़ी कर यात्रियों को बैठाया व उतारा जाता है। ऐसे में इस सड़क से मोटरसाइकिल लेकर निकलना भी मुश्किल हो जाता है। रेलवे स्टेशन आने-जाने वाले बहुत से लोग तो जाम की वजह से उस रास्ते जाते ही नहीं।



Source link

Leave a comment.

Your email address will not be published. Required fields are marked*