vishal panwar August 19, 2020


शहीद रवि कुमार सिंह।
– फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

कश्मीर के बारामुला में आतंकियों से लोहा लेते हुए शहीद हुए मिर्जापुर के सेना के जवान रवि कुमार सिंह का पार्थिव शरीर जम्मू से रवाना हो गया है। पार्थिव शरीर वाराणसी के लाल बहादुर शास्त्री एयरपोर्ट पर आज रात आठ बजे पहुंचेगा। वहां श्रद्धांजलि देने के बाद मिर्जापुर स्थित पैतृक गांव गौरा के लिए रवाना होगा। इसे देखते हुए परिजनों ने गुरुवार की सुबह अंत्येष्टि का फैसला लिया है।

बुधवार को उनका अंतिम दर्शन कराया जाएगा। शहीद के गांव पहुंचे डीएम सुशील कुमार पटेल ने बताया कि सूचना मिली है कि कश्मीर से चार्टर विमार से तीन बजकर 45 मिनट पर शहीद का पार्थिव शरीर वाराणसी लाल बहादुर शास्त्री एयरपोर्ट पर उतरेगा। वहां से पार्थिव शरीर सड़क मार्ग से घर पर पहुंचेगा।

पार्थिव शरीर घर तक पहुंचने में रात हो जाएगी। रात होने के कारण परिजनों से बात की गई है। उनके माता-पिता ने सुबह अंत्येष्टि के लिए कहा है। गुरुवार की सुबह अंत्येष्टि की जाएगी। शासन के निर्देश पर 50 लाख रुपये, शहीद के नाम एक सड़क का नाम और परिवार के एक सदस्य को नौकरी के लिए नामित करने का कार्य किया जा रहा है। अंत्येष्टि में प्रभारी मंत्री दारा सिंह चौहान आ रहे हैं।

 

पुत्र को शेर बनाकर बॉर्डर पर भेजा था, हमेशा शेर ही रहेगा
देश पर अपने प्राणों को न्योछावर करने वाले सेना के जवान रवि की मां रेखा सिंह ने कहा कि बेटे को शेर बनाकर बॉर्डर पर भेजा। दूसरा बेटा होता तो उसे भी भेजती। भगवान ने एक ही पुत्र दिया है। मेरा बेटा शेर था, शेर है और शेर रहेगा। उसने अपने देश की रक्षा के लिए खुद को बलिदान कर दिया। उसने पिता का नाम रोशन किया, हमें उस पर गर्व है।

शासन आदेश करे तो बॉर्डर पर जाकर प्राणों को कर दूं न्योछावर
शहीद के पिता जय सिंह ने कहा कि बेटा देश के लिए शहीद हो गया। दो दिन पहले फोन पर बात हुई थी, बोला था। दो माह की छुट्टी लेकर आऊंगा और दीपावली घर पर मनाऊंगा। बचपन की यादों को ताजा करते हुए कहा कि बचपन की बहुत सी यादें है, उसे स्पोर्ट पसंद था।

बचपन में कहता था कि 18 साल का हो जाऊंगा तो देश की सेवा करूंगा। उसकी यह तमन्ना पूरी हुई। एक और बेटा होता तो उसे भी आतंकियों से मुठभेड़ के लिए भेज देता। दूसरा बेटा तो नहीं है। शासन आदेश दे तो मैं खुद बॉर्डर पर जाकर पुत्र की तरह आतंकियों से लड़कर देश के लिए प्राणों को न्योछावर कर दूंगा।

वादा करके गए थे वो आएंगे, वो घर के हर कोने में है
एलआईयू में तैनात दरोगा कमलेश सिंह की पुत्री प्रियंका सिंह से शहीद रवि का विवाह हुआ था। पत्नी प्रियंका सिंह ने बताया कि 17 अगस्त को शहादत से पहले फोन पर बात हुई थी। उन्होंने बताया कि फायरिंग चल रही है, बाद में तुमसे बात करता हूं। उसके बाद उनसे बात नहीं हुई।

देश के लिए जीते थे, देश के लिए अपनी जान को कुर्बान कर दिया। मेरे पति राजा थे, राजा की तरह लड़े। वो कहीं नहीं गए है, वो यही है हम सब के साथ। वो हमें छोड़कर कभी नहीं जा सकते। हमेशा मेरे साथ रहेगे। वादा करके गये वो तुमको कभी नहीं छोड़ेंगे। मरते दम तक मेरा साथ देंगे। वो है अभी भी, हर जगह, घर के हर कोने में है। वो बोले थे दीपावली पर आएंगे।

मोर्चरी में रात में रखा जा सकता है शव
शहीद के शव को रात में मोर्चरी में रखा जा सकता है। गुरुवार को अंत्येष्टि संस्कार को देखते हुए शव आने के बाद उसे मोर्चरी में रखने पर विचार चल रहा है। शव आने में बाद सीधे मोर्चरी में रखा जएगा या गांव ले जाकर फिर उसे लाया जाएगा, इस पर चर्चा चल रही है।

कश्मीर के बारामुला में आतंकियों से लोहा लेते हुए शहीद हुए मिर्जापुर के सेना के जवान रवि कुमार सिंह का पार्थिव शरीर जम्मू से रवाना हो गया है। पार्थिव शरीर वाराणसी के लाल बहादुर शास्त्री एयरपोर्ट पर आज रात आठ बजे पहुंचेगा। वहां श्रद्धांजलि देने के बाद मिर्जापुर स्थित पैतृक गांव गौरा के लिए रवाना होगा। इसे देखते हुए परिजनों ने गुरुवार की सुबह अंत्येष्टि का फैसला लिया है।

बुधवार को उनका अंतिम दर्शन कराया जाएगा। शहीद के गांव पहुंचे डीएम सुशील कुमार पटेल ने बताया कि सूचना मिली है कि कश्मीर से चार्टर विमार से तीन बजकर 45 मिनट पर शहीद का पार्थिव शरीर वाराणसी लाल बहादुर शास्त्री एयरपोर्ट पर उतरेगा। वहां से पार्थिव शरीर सड़क मार्ग से घर पर पहुंचेगा।

पार्थिव शरीर घर तक पहुंचने में रात हो जाएगी। रात होने के कारण परिजनों से बात की गई है। उनके माता-पिता ने सुबह अंत्येष्टि के लिए कहा है। गुरुवार की सुबह अंत्येष्टि की जाएगी। शासन के निर्देश पर 50 लाख रुपये, शहीद के नाम एक सड़क का नाम और परिवार के एक सदस्य को नौकरी के लिए नामित करने का कार्य किया जा रहा है। अंत्येष्टि में प्रभारी मंत्री दारा सिंह चौहान आ रहे हैं।

 



Source link

Leave a comment.

Your email address will not be published. Required fields are marked*