vishal panwar August 18, 2020


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, आगरा
Updated Wed, 19 Aug 2020 01:07 AM IST

नाइजीरियन गैंग के सदस्य
– फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

आगरा में पकड़ा गया नाइजीरियन गैंग पब्लिक सर्विस डोमेन की मदद से लोगों का डाटा हासिल करता और उनको ठगी का शिकार बनाता था। रेंज साइबर सेल की जांच में गैंग के सदस्य के लैपटॉप में 1.50 लाख लोगों के मोबाइल नंबर और तीन लाख ईमेल आईडी मिली हैं। इन सभी से ठगी की आशंका है। 

रेंज साइबर सेल की टीम ने 12 अगस्त को नाइजीरियन गैंग के सदस्य गुड्स टाइम संडे उर्फ बेंशन, गाजियाबाद निवासी तरुण यादव, संभल निवासी आसिफ और जसपाल को गिरफ्तार किया था। गुड्स टाइम संडे सहित अन्य के पास से पुलिस ने 75 बैंक पासबुक बरामद की थीं। इन पासबुक में करोड़ों के लेन-देन की जानकारी है। गुड्स टाइम संडे के लैपटॉप में 250 करोड़ के लेन-देन की जानकारी मिली। 

पुलिस के मुताबिक, लैपटॉप में तकरीबन तीन लाख ई मेल आईडी, 1.50 लाख से अधिक लोगों के मोबाइल नंबर हैं। आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि यह डाटा पब्लिक सर्विसेज के डोमेन में ऑनलाइन जाकर लिया था। इसकी मदद से ही लोगों को ईमेल और कॉल करते थे। इनसे ठगी किए जाने की आशंका है। पुलिस के अनुसार गैंग के सरगना का अभी सुराग नहीं लगा है। 

झारखंड के विकास से अपराधियों ने एक साल तक फेसबुक मैसेंजर पर अमेरिका की युवती बनकर चैट की। इसके बाद मिलने आने की बात कही। एयरपोर्ट पर कस्टम क्लीयरेंस के नाम पर खाते में 20 लाख रुपये जमा करा लिए थे। 

मुरादाबाद के व्यापारी को दिया झांसा 

गैंग ने मुरादाबाद के रहने वाले नीरज कुमार गर्ग को भी ठगा। उनको व्यापार में निवेश करने पर मोटे मुनाफे का लालच दिया। इसके बाद खाते में कई बार में तीन साल पहले 19 लाख रुपये जमा करा लिए। पीड़ित तब से भटकने को मजबूर थे। गैंग के पकड़े जाने के बाद रेंज साइबर सेल से संपर्क किया है।

संबंधित खबर- नाइजीरियन गैंग ने फर्जी दस्तावेजों से खुलवाए थे 40 बैंक खाते, 10 साल में 250 करोड़ की ठगी
 

सार

  • रेंज साइबर सेल की जांच खुलासा, तीन लाख ईमेल आईडी भी मिलीं 
  • मास्टरमाइंड के लैपटॉप में 250 करोड़ के लेन-देन की जानकारी मिली 

विस्तार

आगरा में पकड़ा गया नाइजीरियन गैंग पब्लिक सर्विस डोमेन की मदद से लोगों का डाटा हासिल करता और उनको ठगी का शिकार बनाता था। रेंज साइबर सेल की जांच में गैंग के सदस्य के लैपटॉप में 1.50 लाख लोगों के मोबाइल नंबर और तीन लाख ईमेल आईडी मिली हैं। इन सभी से ठगी की आशंका है। 

रेंज साइबर सेल की टीम ने 12 अगस्त को नाइजीरियन गैंग के सदस्य गुड्स टाइम संडे उर्फ बेंशन, गाजियाबाद निवासी तरुण यादव, संभल निवासी आसिफ और जसपाल को गिरफ्तार किया था। गुड्स टाइम संडे सहित अन्य के पास से पुलिस ने 75 बैंक पासबुक बरामद की थीं। इन पासबुक में करोड़ों के लेन-देन की जानकारी है। गुड्स टाइम संडे के लैपटॉप में 250 करोड़ के लेन-देन की जानकारी मिली। 

पुलिस के मुताबिक, लैपटॉप में तकरीबन तीन लाख ई मेल आईडी, 1.50 लाख से अधिक लोगों के मोबाइल नंबर हैं। आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि यह डाटा पब्लिक सर्विसेज के डोमेन में ऑनलाइन जाकर लिया था। इसकी मदद से ही लोगों को ईमेल और कॉल करते थे। इनसे ठगी किए जाने की आशंका है। पुलिस के अनुसार गैंग के सरगना का अभी सुराग नहीं लगा है। 


आगे पढ़ें

अमेरिकन युवती बन की दोस्ती



Source link

Leave a comment.

Your email address will not be published. Required fields are marked*