vishal panwar August 23, 2020


नई दिल्ली: कोरोना से जूझती दुनिया के सामने साल 2020 का एक और सरप्राइज सामने आ गया है. नासा (NASA) के वैज्ञानिकों ने भविष्यवाणी की है कि 3 नवंबर को होने वाले अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव से एक दिन पहले पृथ्वी की ओर बढ़ रहा एक छोटा क्षुद्रग्रह (asteroid) इससे टकरा सकता है. आंकड़ों के मुताबिक इस आकाशीय पिंड के पृथ्‍वी से टकराने की 0.41 प्रतिशत आशंका है. 

सीएनएन की एक रिपोर्ट के मुताबिक नासा के वैज्ञानिकों ने भविष्यवाणी की है कि 0.002 किलोमीटर (लगभग 6.5 फीट) के व्‍यास वाला क्षुद्रग्रह ‘2018VP1’ अमेरिकी चुनाव 2020 से एक दिन पहले पृथ्वी के बेहद करीब से गुजरेगा. 

इस क्षुद्रग्रह की पहली बार 2018 में कैलिफोर्निया की पालोमर वेधशाला में पहचान की गई थी. 

ये भी पढ़ें: गंध न आने के तरीके से पहचानें COVID-19 है या आम फ्लू, जानिए क्या बता रहे वैज्ञानिक

नासा का कहना है कि इस क्षुद्रग्रह के टकराने को लेकर तीन संभावित प्रभाव हो सकते हैं. लेकिन अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी ने 21 अवलोकनों के आधार पर 12.968 दिन का जो अंतराल तय किया है, उसके मुताबिक इस क्षुद्रग्रह के टकराने का गहरा असर नहीं होगा.

LIVE TV

इससे पहले पिछले सप्‍ताहांत पर ही एक कार जितने आकार का क्षुद्रग्रह पृथ्‍वी के बेहद करीब से गुजरा है. चौंकाने वाली और चिंताजनक बात यह थी कि इसके गुजर जाने के बाद वैज्ञानिकों को इसके बारे में पता चला. 

नासा ने कहा कि यह क्षुद्रग्रह रविवार को 12.08 बजे ईडीटी (रात 9.38 बजे भारत समय) दक्षिणी हिंद महासागर से 2,950 किलोमीटर ऊपर से गुजरा था.

बता दें कि बड़ी संख्‍या में नियर अर्थ क्षुद्रग्रह (NEAs) पृथ्‍वी से एक सुरक्षित दूरी से गुजरते रहते हैं. आमतौर पर इनकी दूरी पृथ्‍वी से चंद्रमा के बीच की दूरी से भी अधिक होती है. 

लेकिन इस रिकॉर्ड-सेटिंग स्पेस रॉक, क्षुद्रग्रह 2020 QG की पहली तस्‍वीर नासा द्वारा फंडेड एक फैसिलिटी द्वारा निकटतम बिंदु से गुजरने के छह घंटे बाद तब ली गई जब यह क्षुद्रग्रह पृथ्वी से दूर जा रहा था.

SUV के आकार के क्षुद्रग्रह की खोज IIT-Bombay के दो स्‍टूडेंट्स ने की थी. दरअसल, आईआईटी के स्‍टूडेंट्स कुणाल देशमुख और कृति शर्मा नियर अर्थ ऐस्‍टोराइड खोजने के एक रिसर्च प्रोजेक्‍ट पर काम कर रहे हैं. इसी दौरान उन्‍होंने कैलिफोर्निया के रोबोटिक Zwicky Transient Facility, (ZTF)के डेटा का उपयोग करके कुछ ही घंटे बाद इस आकाशीय पिंड की खोज की थी.





Source link

Leave a comment.

Your email address will not be published. Required fields are marked*