vishal panwar August 23, 2020


पटना: बिहार में प्राथमिक विद्यालयों में अब बिहार के लोग ही शिक्षक बनेंगे. शिक्षा विभाग ने बकायदा इसके लिए अधिसूचना जारी कर दी है. शिक्षा विभाग ने कल दो अधिसूचना जारी की. पहली अधिसूचना में शहरी क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले स्कूल और दूसरी अधिसूचना में ग्रामीण इलाकों में आने वाले स्कूलों के लिए बनाए गए नियमों का जिक्र है.

पहली अधिसूचना को बिहार नगर प्रारंभिक विद्यालय सेवा (नियुक्ति, प्रोन्नति, स्थानांतरण, अनुशासनिक कार्रवाई एवं सेवाशर्त) नियमावली 2020 जबकि दूसरी अधिसूचना को बिहार पंचायत प्रारंभिक विद्यालय सेवा (नियुक्ति, प्रोन्नति, स्थानांतरण, अनुशासनिक कार्रवाई एवं सेवाशर्त) नियमावली 2020 नाम दिया गया है.

इन दोनों अधिसचूना के नंबर 10 पैरा में नियुक्ति की प्रक्रिया का जिक्र है. इसमें सबसे पहले जिस बिंदु का जिक्र किया है उसमें ये साफ लिखा गया है कि, भारत का नागरिक हो राज्य के निवासी ही आवेदन करेंगे. बिहार में सरकारी प्राथमिक स्कूलों की संख्या करीब 72 हजार है और इन स्कूलों में बड़े स्तरों पर बहाली भी होनी है.

दरअसल, शिक्षा विभाग को ये शिकायत मिल रही थी कि पहले की जो नियुक्ति प्रक्रिया थी, उसमें बिहार के अभ्यर्थियों के लिए विशेष रूप से कोई जिक्र नहीं था. लिहाजा नियुक्ति प्रक्रिया के बाद दूसरे राज्य के लोगों के बड़ी संख्या में बहाल होने की बात सामने आती थी.

अब शिक्षा विभाग ने बकायदा अधिसूचना जारी कर ये साफ कर दिया है कि बिहार के लोग ही प्रारंभिक स्कूलों में नियुक्ति के लिए आवेदन कर सकेंगे. इसके साथ ही प्रारंभिक स्कूलों में होने वाली बहाली के लिए कुछ नए नियमों का जिक्र किया है जिसमें शिक्षक पात्रता परीक्षा  में पास होना जरूरी है लेकिन इस पर पहले से दिए जा रहे वेटेज को खत्म कर दिया गया है.

इसके साथ ही क्लास 6 से 8 तक के लिए मेरिट लिस्ट बनाने के दौरान मैट्रिक और इंटर के मार्क्स का मूल्यांकन नहीं होगा. इसमें सिर्फ स्नातक डिग्री और बीएड डिग्री ही जरूरी होगी.





Source link

Leave a comment.

Your email address will not be published. Required fields are marked*