vishal panwar August 23, 2020


वाल्मीकिनगर: बिहार में यह चुनावी साल है, जिसको लेकर सभी दलों ने अपनी तैयारी भी शुरू कर दी है. एक ओर बीजेपी ने अगस्त महीने के अंत में प्रत्याशियों को क्षेत्र में दौरा शुरू करने की नसीहत दिया है तो वहीं कांग्रेस अपनी खोई ज़मीन तलाशने में जुटी है.

चुनाव आयोग ने जैसे ही कोविड 19 के दौर में यहां चुनाव संपन्न कराने की गाइडलाइन ज़ारी किया, एनडीए और यूपीए की ओर से तैयारी तेज़ हो गई है. इसी कड़ी में बिहार विधानसभा चुनाव के बीच 1 वाल्मिकीनगर लोकसभा सीट पर उपचुनाव की भी तैयारी जोर शोर से चल रही है .

बताया जा रहा है कि पश्चिम चंपारण जिला में आगामी विधानसभा और बिहार के पहले लोकसभा सीट पर उपचुनाव की गहमा गहमी अब जोर पकड़ने लगी है. इसी क्रम में कांग्रेस भी क्षेत्र में अपने प्रत्याशी के चुनाव को लेकर काफी संजीदा है जिसके लिए कोर कमिटी की बैठक आईबी गेस्ट हाउस बगहा में हुई. 

इस समीक्षा बैठक में इं. शशिभूषण राय और निर्मल वर्मा बतौर ऑब्जर्वर कार्यकार्यताओं से रूबरू हुए. 

बैठक के बाद कांग्रेस के ऑब्जर्वर इं. शशिभूषण राय उर्फ़ गप्पु राय ने कहा कि अगर बिहार में महागठबंधन की सरकार बनी तो बगहा को राजस्व जिला बनाने की लंबे समय से चली आ रही मांग पूरी की जाएगी. 

वही दूसरी तरफ कांग्रेस नेताओं ने बगहा में हो रहे गंडक नदी से कटाव को लेकर भी सरकार को आड़े हाथों लिया और बचाव राहत कार्य में तेजी की मांग किया.

बता दें कि 2020 बिहार विधानसभा चुनाव के साथ ही वाल्मीकिनगर संसदीय क्षेत्र में लोकसभा का उपचुनाव भी होना है. क्योंकि जेडीयू सांसद वैद्यनाथ प्रसाद महतो के असामयिक निधन के बाद से यह सीट रिक्त पड़ी है. 

इधर कांग्रेस कोर कमेटी की समीक्षा बैठक में दिल्ली के वरीय पत्रकार प्रवेश मिश्रा ने 01 वाल्मिकीनगर लोकसभा सीट पर अपनी उम्मीदवारी को लेकर दावेदारी पेश किया तो वहीं बीएसपी से बगहा विधानसभा सीट से दो बार चुनाव लड़े और उप विजेता रहे अधिवक्ता कामरान अज़ीज़ ने महागठबंधन में कांग्रेस से दावेदारी किया है.

ऐसे में अब देखना दिलचस्प होगा कि मिशन 2020 लोकसभा उपचुनाव और विधानसभा चुनाव में पश्चिम चंपारण जिले में कांग्रेस अपनी खोई ज़मीन तलाशने में सफ़ल होती भी है या नहीं.





Source link

Leave a comment.

Your email address will not be published. Required fields are marked*