vishal panwar August 23, 2020


जयपुर: कहते हैं शादी पवित्र बंधन है. पति-पत्नी अग्नि को साक्षी मानकर सात फेरों के साथ, सुख दुःख में साथ निभाने का वचन भी लेते है. लेकिन जोधपुर निवासी युवक ने तो शादी के मात्र 20 दिन बाद ही, पत्नी को घर से बेघर कर दिया, बल्कि उससे रिश्ता तोड़ दिया. या यूं कहें कि, शादी के समय मंडप में अग्नि को साक्षी मानकर लिए गए सात फेरों के वचन को मात्र कुछ ही दिनों में, पति भूल गया.

इसके बाद महिला ने घर बचाने के लिए हरसंभव प्रयास किया. इसको लेकर महिला थाने के पुलिस परामर्श केंद्र में गई. यहां भी लंबी काउंसलिंग चली, लेकिन पति किसी भी सूरत में उसे अपनाने को तैयार नहीं हुआ. आखिरकर पति ने महिला के खिलाफ गहने चोरी का मुकदमा दर्ज करवा दिया.

इसके बाद महिला के सारे सपने जैसे टूट ही गए. अब पीड़ित महिला ने भी पुलिस की मदद ली और पति के खिलाफ दहेज प्रताड़ना, मारपीट, अननेचुरल सेक्स सहित धाराओं में मुकदमा दर्ज करवाया है. फिलहाल, पुलिस मामले की जांच में जुटी है. दरसअल, प्रेरणा जोशी निवासी भगत की कोठी का विवाह 20 फरवरी 2020 को जोधपुर के कुड़ी भगतासनी निवासी गौरव चौबे से हुआ.

शादी के बाद से ही युवक और उसके परिवार के लोगों ने दहेज की मांग को लेकर, मारपीट कर शादी के 20 दिन बाद ही उसे घर से निकाल दिया. इसके बाद से ही लड़की अपने माता-पिता के घर पर ही है. पीड़िता ने अपने स्तर व परिवारिक लोगों ने रिश्ते को तोड़ने से बचाने के लिए हर सम्भव प्रयास किया. लेकिन आखिरी उम्मीद उस समय टूट गई, जब शनिवार को लड़के ने उसके खिलाफ गहने चोरी का पुलिस में मुकदमा दर्ज करवा दिया.





Source link

Leave a comment.

Your email address will not be published. Required fields are marked*