vishal panwar August 22, 2020


लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधानसभा के सत्र के दौरान शनिवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने विपक्ष द्वारा भगवान परशुराम के नाम पर की जा रही राजनीति पर जवाब दिया. सीएम योगी ने बिना विपक्ष का नाम लिए तंज कसते हुए कहा कि उन्हें मालूम हो गया है भारत के अंदर राम नाम से ही वैतरणी पार होने वाली है.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा, ‘उन लोगों ने भी ये भाषा बोलनी शुरू कर दी है क्योंकि उन्हें मालूम है कि भारत के अंदर राम नाम से ही वैतरणी पार होने वाली है. बाकी कोई उसका आधार नहीं है और इस देश की जनता जनार्दन ने बार-बार ये साबित करके दिखाया है. ये वही लोग हैं जिन्होंने राम सेतु का भी विरोध किया था. जिन्होंने सांप्रदायिकता कानून के तहत देश की भावनाओं के साथ खिलवाड़ करने के का प्रयास किया था और समाज को बांटने का प्रयास किया था. आज फिर वो विभाजनकारी मंशा के रूप में आगे आ गए हैं और फिर से इस प्रकार कुत्सित राजनीति करने के लिए समाज को विभाजित करने को अग्रसर हैं.’

मुख्यमंत्री योगी ने आगे कहा, ‘जिन लोगों को राम की वास्तविकता पर ही विश्वास नहीं था. उन्हें राम की ताकत का एहसास अब तो हो रहा होगा. अब तक रोम की भाषा बोलने वाले लोग भी राम-राम चिल्लाने लगे हैं. भले ही वो परशुराम के बहाने क्यों ना हो लेकिन उन्होंने चिल्लाना तो शुरू किया है. राम का नाम तो ऐसा है कि आप जिस रूप में ले लें. राम का नाम चाहे परशुराम के नाम पर ले लें और चाहे मरा-मरा के नाम पर ले लें वो हर एक का उद्धार कर देते हैं.’

ये भी पढ़े- इस तारीख को आएगा ‘अयोध्या के विवादित ढांचे’ के विध्वंस पर फैसला, ये नेता हैं आरोपी

बता दें कि समाजवादी पार्टी ने भगवान परशुराम की भव्य मूर्ति लगाने का ऐलान किया है. वहीं बसपा सुप्रीमो मायावती भी यूपी में सरकार बनने पर भगवान परशुराम की सपा से भी भव्य मूर्ति लगाने का वादा कर चुकी हैं. इसके अलावा कांग्रेस की तरफ से भगवान परशुराम की जयंती पर सरकारी छुट्टी घोषित करने की मांग की गई है.

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कानून व्यवस्था के लिए विपक्ष कहीं ज्यादा खतरनाक है. उन्होंने विधानसभा में आंकड़े पेश करते हुए ये भी कहा कि राज्य में हालात पहले से कहीं ज्यादा बेहतर है.

मुख्यमंत्री ने सदन में 2016 से लेकर अब तक के तुलनात्मक आंकड़े पेश करते हुए कहा कि राज्य में अपराध का ग्राफ गिरा है. विपक्ष कानून व्यवस्था की बात करता है लेकिन विपक्ष कानून व्यवस्था की स्थिति के लिए ज्यादा बड़ा खतरा है.

सीएम योगी ने कहा कि 2016 से लेकर अब तक डकैती के मामलों में 74.5 फीसदी तक कमी आई है. वहीं लूट के मामलों में 65.3 फीसदी, हत्या के मामले में 26.43 फीसदी की कमी आई है. नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो ने उत्तर प्रदेश को अन्य राज्यों के मुकाबले कहीं बेहतर स्थिति में रखा है.

मुख्यमंत्री योगी ने सदन को बताया कि राज्य में तीन तलाक को लेकर सबसे ज्यादा 1,434 मामले दर्ज किए गए और 265 लोगों की गिरफ्तारी हुई.

LIVE TV





Source link

Leave a comment.

Your email address will not be published. Required fields are marked*